Tuesday, December 28, 2010

Toward 2011

This has been a productive year for me.
Anti-Social Engineering the Hyper-Manipulated Self is out, finally...
The traffic to this site has more than doubled. I'm currently averaging forty visits a day.
Most of these visits stay between 7 and 12 mintues.
Many of these visitors return at a later date to read more.
The days I release new material, the visits quadruple.
My multi-language experiment has opened my work up to new audiences, albeit poorly translated. Obviously, given my subject matter, a global audience is preferred.

I couldn't have done this without you, the audience, the reader, the thinker and so I thank you.

According to the stats, my most popular essays are:
1. Capitalism isn't evil, it's stupid
2. The Philosophy Generator
3. A comment on Canadian nationalism
4. The War on Reason (in English, although most popular as Причина войны)

I also publish material at science20.com, which gets a great deal more traffic than I do. Check out the most popular essay I have there...
Shame Theory

Thanks again for reading, love to have more comments...
Looking forward to 2011, the year of accountability.

As always,
Best Thoughts,
Brian Taylor

Monday, December 20, 2010

Book Release

Post Paper Publications and Brian C. Taylor are proud to release  

Anti-Social Engineering the Hyper-Manipulated Self

ISBN 978-0-557-99909-5
Copyright Brian C. Taylor (Standard Copyright License)
Publisher PostPaper / Lulu Enterprises
Published December 20, 2010
Language English
Pages 310

Binding Perfect-bound Paperback
Interior Ink Black & white
Dimensions (inches) 6.0 wide × 9.0 tall

 The book contains charts, photos, a bibliography and index. 

    Some of the problems we face in modernity are of our own design, but we are manipulated to desire the design. In philosophical terms, it is the semantic deception of dialectical theses. Explaining what this means, how it works and what can be done to combat it is the goal of this book.    We used to rely on our wits. Now our problems are solved for us. This is a pleasant state of affairs, but it does not speak to our essence, nor even allow us to practise it. In a way, the system is living our lives for us. What if the system is wrong?
    In this short work Brian C. Taylor, writer, philosopher and social critic follows our ideas about the self through the ages, into modernity, into consumerism, the war on terror and other timely concerns that aim to socially engineer our ideas. His goal is to scientifically return your authenticity.
    Chasing philosophers through the ages, following our own ideas about the self, to dismantle both himself and modernity, the author brings in this tiny work, with candour, wisdom and depth, a dismantling of thought, a critique of the species, a pathway to virtue.

    Quotations from the book:
    "We are not talking about God here, nor even the grand scheme of society, we wonder about ourselves. By realizing when someone or something asks us to believe in it, in its intention, to create some reality out of an idea, we can begin to wonder about the value of following the rule."

"If modernity is the cause of complexity and systemic complexity is the cause of the rampant ineptitude that keeps rearing its ugly head, and we, in our infinite confusion, attempt only to counter this problem by adding further complexity, are we not just denying there is even a problem?"

"No matter how you reduce it, the events that took place on Manhattan Island, September 11, 2001 were a direct result of the intentions of the American government."

“Here, in our modern times, we don’t have to look to conspiracies or politics, just turn on your TV and watch some commercials. Is it not a paranoid delusion that sells anything to rid you of it? Is it not a hallucination that plays a jingle in your head when you see the golden arches of McDonalds? Do you not feel depressed when you can’t get what you want? Blame your thoughts on your environment for the problem, not the environment. You are the problem, change your thinking.”

Paperback is available at the following stores:
Support independent publishing: Buy this book on Lulu.

The Digital Download is available at the following sites:
Support independent publishing: Buy this book on Lulu.

Friday, December 3, 2010

Globalization and the New World Order

The following is a snippet of Anti-Social Engineering the Hyper-Manipulated Self. 

Globalization is inevitable and it is a good thing too. The sooner we all get over our issues with this fact, the better. The reason for my believing this to be true is due to the failure of the systems we design. Specifically, the counterproductive, paradoxical aspects of those systems. We've already mentioned the semantic deception of a dialectical thesis and how our need to express our individuality from within conformist boundaries confounds our beings. Further adding to our problems are the ideas of nationhood and “spreading democracy,” religion and yes, even the double standard the war on drugs represents. Now, ask yourself, are there any countries in this world where you can't buy a Coke? The answer is no. So why is it that the Coke company can get along with everyone, yet our supposed leaders cannot. Please note, I didn't say we can't get along, it is not we that start these fights amongst our little, global parcels. One way or another, we are told who to hate. 
The speech that should be given here is redundant. How many more times do you have to hear, “We're all one people. We've only got one planet. Everyone deserves the right to live as they see fit, providing they're not hurting anyone. Peace. Love. Etc.”? We, as I've stated and believe, for the most part, are good people. We work hard, we raise our kids, we seek joy. If we all were allowed to leave each other alone, we wouldn't have any problem. Alas, we are raised to want to be different, to have nationhood, to have culture, to differentiate, to expect growth and realize superiority, the list of erroneous philosophies rages on, programming us to fail at the one reasonable reaction that life affords us, prudence. Thus, globalization will be the result of collapse.

I say, if you find yourself resistant to Globalization, examine what kind of notions you harbour about it. We are one people, we do find ourselves partaking of the same pleasures and pains. For me globalization represents the opportunity to work out those pains together. If the world of business can become globalist, why can't we all? It is, after all, why we're here. We are here. We're all here. We're all here together. We may never know why, but we know what we can do. We also know we can't do it alone and what we have to do, we all have to do. William S. Burroughs said, “We're all here to go... We're all here to go, into space. But what are you and you and you and you and you and you and you here for?” I suppose this is true assessment and a fair question. Eventually, we will have to leave the Earth. The life cycle of the Sun guarantees this fact, however far off in the future this transformation will take place. 

Perhaps it is the nerd in me, but I think Star Trek is the pinnacle of globalization and should be its desired outcome. So too shall it be attached to my globalist paradigm, I have decreed. The “prime directive” of the “Federation of Planets” goes well beyond global concepts, but it must first have been achieved globally for it to work universally, that being, a strict policy of non-interference. “Don't love your neighbour, leave the poor bastard alone.”
Business is pushing this one currently. The world of trade has a monopoly on the idea of globalization. It has been argued that this definition is changing because of modern travel, the internet, the environmental movement and other “global village” concerns. Business, of course, has profit as its goal and for certain businesses, the idea of “everyone being on the same page” is not profitable. Although this seems rather transparent to me, I suspect there are at least one billion people who would like to argue the opposite. However, if you are in the business of killing people, I think it's plain to see how globalism, “one world-ness,” is counterproductive. This is why I don't get too excited about the so-called New World Order, the idea of the utopian future shifts and changes with each passing age. This particular gaggle of idiots is just premature. 

We will have our new world order, when we are ready, when it is ready. We won't make it, it will make us. The median will be determined by our balancing of all extremes, of all differences, into something that we can be proud to call human.
Although there are tangible results, from within the already successful business/trade aspects of globalization, as well as the burgeoning “attitude shifts” developing within this new global paradigm, the evaluability of the phenomenon itself is limited. There is also the usual problems we have with knowing we are doing right, as we do it. Some hindsight is preferred. There is certainly a very real opportunity for danger represented by the suggestion that the entire human species follow some particular philosophy or other. Unless of course, the philosophy be that we strive to do our best possible thinking, working toward virtue in all endeavours. 

This continues to be my wish.
When you reduce globalization to its fundamental components, it becomes attached to emotions, such as competition introduces a desire to see your opponent fail and cooperation develops a desire to see your partner succeed. There are also going to be emotional compromises in achieving some virtuous mean, particularly if you currently find yourself comfortable in some extreme or deficient aspect of modernity.

I am strongly in favour of all humans getting on the same page, the right page, the page this book attempts to define. Of all the possible typification that can describe the human species, eudaemonic and virtuous are the ones most likely to contribute to any lasting success. I'm unable to score it as a perfect interpretation because of the dangers present in adopting other, more directional paradigms, such as in the socially engineered forms we find ourselves presently combating, “think this about that.”

Saturday, September 25, 2010

1. Internal Dialogues & Delusions of Grandeur.

Taken from my forthcoming book, Anti-Social Engineering the Hyper-Manipulated Self.

Q: What's this book about?

A: We used to rely on our wits. Now our problems are solved for us. This is a pleasant state of affairs, but it does not speak to our essence, nor even allow us to practise it. In a way, the system is living our lives for us. I'm not suggesting we return to some wilder version of ourselves, but rather that we, by living this way, lose some of what it is that makes us free. By being dependent we are proven needy and by maintaining that dependency, we change our ability to think about some things we must. 
Q: What is Social Engineering?

A: To do Social Engineering is to manipulate the intentions of a group of people. 
Q: To what end?

A: It varies, you might want to sell a car or a hamburger, you might want to elect a politician or start a war. Mostly, you just want to change minds.

Q: So then, I imagine there are various parties doing various engineering to different ends?

A: Yes, there are various classes of social engineering. Traditionally this phenomenon has been examined by looking at groups, but I maintain a more granular approach. Groups are just collections of individuals. When a person matures they are expected to be responsible and accountable, I can't imagine why we should expect society to be any different. 
Q: Social Engineering must be a very common and old phenomenon.

A: It is. A soon as humans clumped together into groups, perhaps even just families, we've had to engineer social ideas that we adhere to. It is a natural process of a social being. 
Q: So why write a book, now?

A: There are certain types of social engineering that represent possible dangers. For example, you may not be aware that your ideas are being intentionally manipulated and, on another level, the manipulation itself could be dangerous. Sometimes these manipulations are secret malignancies. 
Q: How do these dangers apply to me?

A: They could have a great impact on your life. Ideas are what we are talking about being manipulated. Ideas represent a great deal of living, particularly in our hyper-modern, western society. One doesn't have any choice but to be bombarded with other people's intentionality, pick up a paper, turn on the news, go to work...

Q: I work for the newspaper. I don't feel endangered...

A: Well, what is your intention for this piece?

Q: I'm here to understand your overall theory. I want to be able to encapsulate it for my readers. 
A: Why?

Q: What do you mean, why? 
A: Suppose you get it wrong. Suppose I get it wrong. What happens if we fail to make it clear?

Q: People would get the wrong idea.

A: What happens if my idea was the greatest idea ever?

Q: The people wouldn't benefit... Okay, I get it, but you still haven't answered my question. Give me a concrete modern example of dangerous, secret Social Engineering. 
A: The so-called war on terror. Even if we ignore all of the more conspiratorial aspects of the war on terror, even if we only speak in widely accepted truths, we still must take certain things for granted. Some of these things that we hand over freely are very powerful motivators, they are the sorts of things people are willing to kill and die for. These motivators are explicitly engineered with a very distinct and direct goal. This danger to life and limb, however, is not what concerns us. Nor do we care about the reasons for your succumbing to the engineering. We want to know the true motivations of the engineers. We seek transparency for individual understanding and authenticity. 
Q: Now you're into conspiracy theory.

A: I think that there are times when crazy stories are more believable than sane ones, but as I said, we don't need these alternative investigations, we can learn all we need to know by pursuing the ultimate ends of the things we humans do. Ask yourself the key questions, who, what, where, when and especially why. When you're considering the why, remember our society's primary motivator, to grow. 
Q: What's the matter with growth?

A: Remember earlier, you asked me to give you an example of a dangerous, secret social engineering? (I nod.) The idea that growth equals progress is a great example. The danger of this belief is illustrated by the fact that nature tells us all things end. This is one of the fundamental laws of the universe. Only a human would come to the conclusion that ideas such as institutions, corporations, religions or any other alike thinking group could indefinitely become more than what it already is. This planning toward perpetual growth is even more dangerous when it leads to actions such as stripping the Earth of natural resources. These are the places where ideas effect the world. 
Q: I can see your point. What are we supposed to do about it?

A: To start with, become aware of it. Awareness is key, every intention starts there and if we are going to change things, we need to fight fire with fire. There seems to be this attitude that to change things is too difficult or even impossible, so we don't even try. We say “well, what are ya gonna do?” like that's some kind of answer. So, although awareness is key, we must also do something and changing our mind counts. This is the goal of Anti-Social Engineering. 
Q: What is Antisocial Engineering?

A: Well, it means two things. Firstly, if it is Antisocial, all one word, Engineering, then we are talking about the de-socialization of a particular group. This occurs via things like the anonymity of the internet and the segregation of the self. If it is Anti-Social Engineering, with the hyphen, then it indicates an intentional stance of awareness toward social engineering. One uses anti-social engineering to achieve a truer personal authenticity through examining one's intentions.

Q: How does that happen?

A: It happens through contemplation, honesty and logic. In the book I discuss the value of maintaining the socially engineered idea that we “support our troops.” What does that actually mean? What do I have to do in order to comply with this request? Are there other intentions involved in maintaining the idea of supporting the troops? Are there variations on troop support? Is the message a case of persuasion or manipulation? This is where the nuts and bolts of doing philosophy come into play. 
Q: You mean the parts where you go on and on, defining definitions. (Taylor laughs.)

A: Yes, those parts. I think everyone should be thankful for the high number of times I say things like, “Here, we must ignore the unfathomable conundrum that such and such represents...” Seriously, my book doesn't really teach you how to do philosophy. Rather, it points to philosophy and says, “this is what you can do.” It's my hope that everyone who wants to think well would be turned on by philosophy, perhaps thinking of themselves as a philosopher, with a small P.

Q: But you, very explicitly, instruct us on how to think.

A; Not exactly. I talk about how thinking is done and give the reader a way to examine that thinking. I don't ever say, “think this about that,” because that is precisely what I'm trying to combat. But I do talk about my own thoughts and explore common questions.

Q: Are you trying to change the world?

A: Yes, but one mind at a time. This book may or may not tell you something you don't already know, this is not my goal. What I want is for the reader to think about what he already knows. There's not enough good thinking going on these days. I think social engineering has something to do with that. 
Q: Is this a textbook? It's pretty... deep. 
A: No, I've written this book, as I've researched it, over the last four years. I have a knack for reducing ideas to their lowest common denominators and I've attempted to keep the book conversational. There is some fancy college talk, but if you want to have a deep conversation you have to be able to comprehend deep thoughts. For instance, chapter seven, On the nature of Reality & our Perception of it, is basically a summary of John Searle's Philosophy of Mind lectures, but we need to understand intentionality if we're going to discuss intentions. 
Q: What is the ultimate goal? The ultimate message?

A: I'd like to see everyone thinking well and fully about everything that matters. I am happy to define the parameters of every term necessary to describe how to think without suggesting what to think.
Q: More than once in your book, you refer to the human species as idiots or sheep. You use the phrase “rampant ineptitude of modernity” as a catch-all for the phenomenon of the things in modern life you don't like. Are we really that bad off?

A: Yes. We may have jobs, air, water, money, comfort, even toys and other needless pleasures, but these things do not come without a price, nor are they a right of existence. We take these things, perhaps all things, for granted. We assume there will always be clean air, water, jobs, etc... This is the type of foolishness that warrants my use of the word “idiot.” I don't exclude myself from the idiocy, “Idiot” just reflects the expected levelling off that comfortable commonality demonstrates. An idiot is an ordinary guy, working his way through life by common design. As for the rampant ineptitude of modernity, I've been looking at that all my life. Anyone who let's things slide, lies, cheats or is generally lazy contributes greatly to this ineptitude. The ineptitude is exemplified whenever someone who should be accountable, isn't. It is a phenomenon that is particularly rampant in western societies. We skimp, we cut corners, we pass the buck. Here, I make an effort to not perpetuate this folly.

Q: Do you think you're better than everyone else?

A: No. Although your question is too general. Firstly, everyone would have to agree that there are better or worse people in the world, by some general consensus. So, if by that standard, I fall into the “better” category, could I fairly call myself “better” then? No, because secondly, your question essentially asks in its generality, “Do you think you're the best ever?” Which I do not. Finally, what do you mean by “are better?” Do you mean “doing better” or “being better?” Although I am who I am, I also can only be that on the inside, whatever that is. You and everyone else are concerned with what I send out into the world, this is how we are all judged, by what we do, not by what we say we are. So, if I am “better” than others, it is only because of what I do, not what constitutes the vehicle of my actions. The vehicle does not make the indelible marks, the acts do. I, at least, make my efforts knowing that this is true and understanding virtue.

Q: Is that some kind of intellectual elitism?

A: Elitism is a state of mind that is very real in the world today, but you can be an elitist cowboy pimp if you want. Elitism has gotten a bad reputation because it's become synonymous with the wealthy, who happen to exercise a great deal of control. In reality elitism is only an opinion that expertise has its place. I have no problem with experts sharing their expertise, or even leading our intentions, as long as they're forthcoming about it and I retain the option for veto. The problem with elitism isn't the elite part, it's how we define what we are to be elite about. For instance, Politicians often have no useful expertise. They are experts of nothing. Big Business is only interested in profit, they shouldn't be considered in policy matters because of this single minded bias. Yet these things become mashed together on a daily basis. Also, elitism is like a charge that is levelled at someone, it could easily be a product of your own insecurities. Elitism is easily a matter of opinion.
Q: More than once in your book you say that we are at the beginning of a “new enlightenment.” What does that mean?

A: In the first Enlightenment, Europe sort of hashed out the kinks of western modernity. It would still take a couple more hundred years to work out the bugs, but we sort of woke up from the Dark Ages and didn't like the way things were going. Some scientific advances and a few revolutions later, the Enlightenment gave the populace its freedom by realizing its power. The influence of church and state had been lessened. The working class became recognized. The powers that be still sought control, but their forced intentions could not always be transparent, now that the common folk had a voice. Social Engineering needed to go underground. So, where in the old Enlightenment we woke up to our conscious servitude, in this new enlightenment we realize our unconscious servitude.

Q: Is this your “hyper-manipulated self?”

A: Almost, before the hyper-manipulated self can be realized, it needs to be manipulated to be manipulated, this is what makes it “hyper.” Modernity, has been engineered to pre-programme us to be susceptible to manipulation, thereby making any subsequent engineering easier.

Q: Why do we need to be controlled?

A: We don't need it, yet we now seek it because we've come to expect it. Here's how it works, from within  the the socially engineered Freudian idea that we are all damaged goods. They tell us that “they” know better than “us.” Then they tell us that we are really monsters capable of horrible atrocities. Then they tell us they need us to go commit horrible atrocities. (Taylor pauses, taking a sip of his coffee.) We comply, which provides them with their proof. If you commit the same horrible atrocities off the battlefield, in your own name instead of the name of freedom, whatever that is, then you're a monster. So horrible atrocities “over here” is okay, but “over there” is wrong. This is total control. They only tell us what we do so we'll believe we do it. When, in actuality, we're only complying with the programming. They've made us this way. We need their control now, or we are nothing. This doesn't have to be as important a decision as whether or not we should support the troops, support the war, or fight in it. It could be something as simple as choosing to buy product A instead of product B. There's a great hyper-manipulative Subway commercial on TV right now that demonstrates a young man, in his apartment, filming himself pretending to do various things that demonstrate who he is. I presume he is doing so for some social media website. At any rate, after pointing out some of his belongings, he puts on sunglasses and a helmet, then rides his stationary bike. The tag line reads, “I choose therefore I am different.” This is the hyper-manipulation of hyper-reality. We need to attach meaning to our reality because so much of it is pointless.

Q: Isn't this going to make people angry? I mean, aren't you really saying that the whole system is wrong and needs to be changed?

A: God, I hope so. We need the same kind of revolution that was supposed to end totalitarianism. It didn't work the first time, it just pushed it underground. But it goes beyond politics, into the economy, culture, ethics, the personal and universal foundations of society, whatever they may be. It seems not to matter where you live in the world, you have somebody either in your face or behind your back, informing you what life is and isn't to be. These forced intentions are not always copacetic. Also, because we are hyper-manipulated, we ourselves perpetuate the phenomenon. That's why I say change starts one mind at a time.

Q: What is this? (See chart below.)

A: This is the Philosophy Generator. It is an organizational tree that helps to source, type and evaluate your ideas on any given subject. Paradigm, at the top, is broken into experiential norms or social norms. A paradigm is just an intentional stance, a way of thinking about things. Social norms are paradigms that you learn of via the influence of others. All social norms are engineered by either persuasion or manipulation. By working an intention through the Philosophy Generator we are able to dismantle it and do our best possible choosing. It is a contemplative pathway to assignee's prerogative. 

Q: What is Assignee's Prerogative?

A: AP is a recognition that each of us assigns our own value or weight to any particular paradigm. It is the opposite of hyper-manipulation.

Q: Don't people know that anyway?

A: No. Everybody does that anyway. Most people don't think about it, therein lies the danger. Almost everyone has paradigms that are personally valueless, they retain them only because others find them valuable.

Q: What if they're right?

A: They may be right and that is fine. The problem is that we are deciding on the rightness or wrongness of ideas without thinking about them, or perhaps thinking incorrectly or incompletely about them. The desire to believe any idea is innate, all I'm attempting to do is attach some virtue to the choosing, which is an idea as old as Philosophy itself. I've just tried to develop a way to recognize and clear away any confusion that intentionally clouds our minds. Along the way, we will be re-examining some key ideas and definitions. We have much to gain by turning convention on its head and shaking things up, in this day and age.

Q: Are you saying that by doing so, we can think better, which is going to make us better individuals, which is going to produce better societies and you're going to show us how?

A: I've already started. I realize steering folks away from tradition is going to make some uncomfortable but if change was easy, we wouldn't be having this conversation.

Monday, August 23, 2010

You are now part of my experiment...

Thanks for stopping by.

Recently, after viewing the Google analytics for this site, it came to my attention  that certain geographical areas of the world are more interested in my work than others.

To this end I have installed google translate, which works fairly well, from what I understand. Some languages translate better than others, surely, but regardless, given the sometimes technical and always thorough language style of my philosophical meanderings, I have chosen to see if my numbers increase by posting articles in different languages.

Thusly, as you scroll down, through my esssays, you will find the same essay, "The War on Reason" repeated in various languages. If you happen to speak any of these languages, you might try muddling through it. I'm well familiar with my unpopularity in my native English :) I can muddle my way through some French, but other than that, I need help knowing if my "translations" make sense.

Please leave a comment, or drop me an email.

Thank you very much for participating.

Beyond the repeated "War on Reason" essay, in various attempted languages, and also listed in the sidebar to the right named "Blog Archive" you will find many other interesting essays to read, in english or by using the translate tool at the top of the page.

Please take your time to peruse my material or the available links, come back often and don't be shy.

Best thoughts,

कारण पर युद्ध

कारण पर युद्ध ब्रायन टेलर द्वारा
translated by  google translation
घटनाओं है कि सितंबर को मैनहट्टन द्वीप पर हुई, 11 वीं 2001 और कुछ प्रमुख सामाजिक byproducts के बूझकर दार्शनिक पहलुओं की एक परीक्षा.
यह 9 / एक षड्यंत्र सिद्धांत के रूप में 11 के बारे में एक निबंध नहीं है, यह राय है कि या तो सरकारी कहानी या विभिन्न सिद्धांत है कि उपलब्ध हैं में विश्वास के लिए जरूरत के द्वारा बनाई गई है dichotomy बारे में है. इस hypermanipulation के बारे में एक निबंध है.
यह मेरी आगामी पुस्तक के लिए एक एक अध्याय के संपादित संस्करण: असामाजिक हाइपर छेड़छाड़ 2011 की वजह स्व इंजीनियरिंग है.
टिप्पणी का स्वागत कर रहे हैं.
कारण पर युद्ध
कोई फर्क नहीं पड़ता कि कैसे आप इसे कम करने, घटनाओं है कि मैनहट्टन द्वीप, 11 सितंबर, 2001 को हुई अमेरिकी सरकार के इरादों का एक सीधा परिणाम थे. अब तक आप षड्यंत्र सिद्धांत में जाने कैसे हो तुम पर निर्भर है. मैं उन सब सुना है, लेकिन मैं यहाँ पर उनमें से किसी की सदस्यता के लिए यकीन नहीं है. तुम मुझे पता है, आप अपने लक्ष्यों को यहाँ पता है. मैं मैं क्या है: चीजें हैं जो हम सहमत हैं निर्विवाद तथ्य और तर्क के साथ जा रहा हूँ. यह पूर्ण प्रकटीकरण के हित में है कि मैं इन सभी सिद्धांतों उस दिन क्या हुआ उपस्थित थे. यह मेरी कुल तर्क का एक जरूरी हिस्सा है कि राय की dichotomy सचित्र किया जाता है. मेरा मतलब है कि कोई वास्तव में किसी को भी, अनादर, इस कहानी में, मैं शिकार के रूप में सभी को देखने के लिए. यह केवल अपने तर्क के बारे में हम सोचना चाहिए, हम भी पहचान कैसे यह सब और क्या है कि तर्क का मतलब है चाहिए नहीं है.
तो, हम क्या बारे में उस दिन क्या हुआ कुछ के लिए कह सकता हूँ? यह कल्पना करना मुश्किल है कि "" कुछ नहीं हुआ सोच है कि किसी दिन और मैं निश्चित रूप से कर रहा हूँ ऐसे किसी सिद्धांत से अनजान आगे आ रहे हैं. हर कोई सहमत है कि "उस दिन कुछ" हुआ. अन्य बातों के हम को क्या हुआ यकीन है, लेकिन कुछ चीजें दी जाती है. वहाँ के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर परिसर में तीन और टावरों हुआ करता था. उन टावरों वहाँ क्योंकि वे उस दिन नष्ट हो गए थे नहीं हैं. हैरानी की बात यह है जहाँ हम वास्तव में क्या जानते हैं और के रूप में सब क्या हो रहा पर सहमत कर सकते हैं समाप्त होता है. कोई बात नहीं आप कैसे कहानी के बाकी को देखने के लिए, आपको एक व्यक्ति जो सोचता है कि अलग से भी अधिक ढूँढने में सक्षम हो जा रहे हैं. कुछ करने के लिए, यह कोई महत्व नहीं हो सकता है. प्रतिमान पक्षाघात के साथ हममें से वे हमारे उन हम में से जो भी इस तरह के बकवास नहीं सुना होगा, मन नहीं बदल हमारे मन बदल नहीं जाएगा. तुम और मैं, हालांकि, कैसे दिमाग काम करता है कुछ है, स्वयं को कैसे आकार का है समझते हैं. तुम और मैं समझ कैसे, समय पर, हम भी खुद को विश्वास नहीं कर सकते शुरुआत कर रहे हैं. हम जानते हैं जानने और विश्वास के बीच अंतर क्या है. हम बड़े चित्र में मूल्य देख सकते हैं. हम खुद के लिए तय कर सकते हैं, अधिक महत्वपूर्ण बात, अगर हम इतने चुन फैसला नहीं कर सकते. जैसा कि मैंने कहा है हर कोई विश्वास करने के लिए हकदार है जो भी बकवास वे पसंद है. हममें से कुछ भी कर रहे हैं समझाने के लिए क्यों हम पर विश्वास करने में सक्षम कहा, "मैं सिर्फ बातें कर के बिना".
सबसे पहले, मैं दिन के सरकारी खाते, के रूप में संक्षेप में समझाने के रूप में मैं इससे पहले कि मैं खुले एक कीड़े के कर सकते हैं कर सकते हैं. हमेशा की तरह, हम चाहते हैं जो, क्या, कहाँ, कब, कैसे और घटनाओं है कि विनाश है कि सितंबर को वर्ल्ड ट्रेड सेंटर में जगह ले ली ग्यारहवें करने के लिए नेतृत्व के कारण है. (हम भी दिन की अन्य घटनाओं पर चर्चा करेंगे.) हम सभी सहमत है कि, अंत में, हम तीन धूल, मृत और लापता लोगों की हजारों करने के लिए कम टावरों था. कैसे टावरों के पतन और क्या कारण था? अधिकारी स्वीकार संस्करण वास्तव में काफी आसान: दो बड़े वाणिज्यिक विमानों दुर्घटनाग्रस्त हो गया, टावरों में से प्रत्येक में एक प्रत्येक. विमान ईंधन और बाद में विस्फोट और आग से लदे थे पतन से पहले लगभग दो घंटे से ज्यादा संरचनात्मक समर्थन कमजोर हो गई. अंत में, एक बार का समर्थन करता है चलो, ऊपर मंजिल पकड़े बीम के नीचे तल, जो भी कमजोर हो गया था गिर गया. इस प्रकार, ढह नीचे तल, तो नीचे तल ऐसी गति और वजन, जब तक हासिल की गई थी कि टावरों एक "पैनकेक" प्रभाव में लगभग मुफ्त गिरावट गति पर, फर्श फर्श करने के लिए विघटित. पहले एक टावर ध्वस्त हो गई, तो अन्य. तो, कुछ ही घंटे बाद तीसरे टॉवर, डब्ल्यूटीसी 7 के निर्माण के रूप में जाना, गिर गया. (हम इस घटना को अलग से चर्चा करेंगे.)
कैसे विमान इस्तेमाल किया जा रहा थे की आधिकारिक विवरण भी बहुत स्पष्ट है. अल Queda, के सदस्य नियंत्रित और ज्ञात आतंकवादी सरगना ओसामा बिन लादेन द्वारा वित्त पोषित है, अमेरिका के खिलाफ एक पवित्र युद्ध मजदूरी की कामना की. अपहर्ताओं boxcutters जानवर बल प्रयोग किया और उन्हें अमेरिका में विशिष्ट लक्ष्यों में दुर्घटनाग्रस्त करने के इरादे से इन हवाई जहाज के काकपिट में प्रवेश प्राप्त करें. जो सब पर एक चार विमानों के लिए, वे नहीं किया. चौथे पेंसिल्वेनिया में एक क्षेत्र में दुर्घटनाग्रस्त हो गया. अधिकारियों ने बाद में कहा कि वे यात्री सेल फोन चाहने वालों को फोन के माध्यम से boxcutter कार्यप्रणाली के बारे में पता बन गया है, पुलिस, एफबीआई, आदि सब पुरुषों के विमान में सवार यात्रियों को टिकट के रूप में. वे सब के सब मुसलमान थे. पुरुषों के कुछ पायलटों के रूप में अमेरिका में प्रशिक्षण दिया जाने जाते थे. Highjackers के रूप में वे ज्ञात हो गया, विभिन्न मध्य पूर्वी देशों से थे. पाकिस्तान, सूडान, उनमें से ज्यादातर सऊदी अरब के थे. उनमें से कुछ, बाद में पहचान की, "मुस्लिम अतिवादियों जाने जाते थे" पेंटागन तीसरे highjacked है कि एक विमान प्रक्षेपवक्र जमीनी स्तर पर आए थे द्वारा मारा गया था.. इस घटना के वीडियो फुटेज नहीं useable है, लेकिन वहां अभी भी बाद की तस्वीरें.
इसलिए हम सब कुछ शामिल है, लेकिन "आधिकारिक". क्यों कौन सा सबसे कठिन को कवर करने और मुद्दा है जिस पर हम नहीं बल्कि किसी की राय को स्वीकार करने के विकल्प नहीं है अगर हमें विश्वास है कि ओसामा बिन लादेन के टेप के लिए जिम्मेदारी ले. घटनाओं और कह रही है कि उसने अमेरिका इजरायल और मुस्लिम भूमि पर कब्जे का समर्थन करने के लिए जवाबी कार्रवाई में है, तो यह अभी भी अपने संस्करण है, जो "मुस्लिम अतिवाद के अमेरिकी संस्करण से अलग है सब कुछ के बारे में अमेरिका से नफरत करता है. विशेष रूप से स्वतंत्रता" अब, इस पर पीछे मुड़कर बयान में, यह लगभग हास्यास्पद लगता, फिर भी हम सभी अनगिनत बार सुना था.
अब, इससे पहले कि हम खुले कि अंदर सहकर्मी कीड़े के कर सकते हैं, और देखो weirdness किस तरह के आसपास wriggling है, चलो की जांच अभी कुछ और समग्र कहानी का जानबूझकर truisms पृष्ठभूमि के बारे में स्वीकार किया. यह एक छोटे से इतिहास entail जाएगा. 24 दिसंबर, 1979 पर, रूस मुजाहिदीन के खिलाफ चल रहे गृह युद्ध में अफगानिस्तान की सरकार में सैनिकों की सहायता भेजी है. मुजाहिदीन थे, और अभी भी कर रहे हैं, अनिवार्य रूप से मुस्लिम स्वतंत्रता सेनानियों. अफगानिस्तान सरकार ने अफगानिस्तान के डेमोक्रेटिक रिपब्लिक कम्युनिस्ट था और सरकार अग्रिम कामना की एक और अधिक आधुनिक, पूर्वी जगह में. तख्तापलट के इस प्रकार के क्षेत्र के लिए सभी एक नई बात पर, यहां तक कि अफगानिस्तान के इतिहास पर एक सरसरी नज़र आपको लगता है कि यह साबित करने के लिए होगा नहीं था, और हमेशा किया गया है, परेशानी पेश की एक क्षेत्र है, शायद यह हो गया है कि हम क्या कॉल में केंद्रीय स्थान मध्य पूर्व. लेकिन इस समय, सरकारी सहायता के लिए सोवियत संघ पूछा और मिल गया. अमेरिका इस तरह नहीं था बेशक, शाह वे ईरान में जगह के बाद विशेष रूप से बेदख़ल किया गया और अमेरिकी राजदूत का अपहरण कर लिया था, तो मार डाला. (और हम शीत युद्ध भूल नहीं, प्रभाव में अब भी है). अमेरिका और उसके सहयोगी दलों में से कुछ, सीआईए अफगानिस्तान में हथियार और आपूर्ति funneled, पाकिस्तान के माध्यम से, अक्सर करने के लिए अपने "देशभक्ति संघर्ष में मुजाहिदीन के समर्थन के माध्यम से यह सचमुच." डाल बिन लादेन और पाश में अपने संसाधनों. वह "" पेरोल सभी intents और प्रयोजनों के लिए, लेकिन जरूरत पर नहीं था, वह था. वह हर तरह से सहायता प्रदान की गई कल्पना, इस आधार पर अमेरिकी सैनिकों को वहाँ लगाने से कम किसी भी प्रशिक्षण या सलाहकार के अलावा अन्य के रूप में.
फिर, 1988 के वसंत में, रूस, डॉलर के अरबों खर्च होने और अनगिनत युवा पुरुषों खो दिया है, वह छोड़ दिया और उसके सैनिकों को हटाने के लिए शुरू किया. कुछ लोगों को फोन रूस अफगानिस्तान संघर्ष "रूस वियतनाम" क्योंकि यह अलोकप्रिय था, मालूम होता है unwinnable तथा होनहार पहले स्थान पर छोटी इनाम (या तो यह जनता के लिए लग रहा था रूस retreating के साथ.) मुजाहिदीन विजेताओं, जैसा अफगानिस्तान दावा मैं जो लगता है कि वे थे. हालांकि वे मूल्य का भुगतान किया गया था, अराजकता जारी रखा. अफगानिस्तान हमेशा एक आदिवासी क्षेत्र या आदिवासी लोगों की गई है. तालिबान, (एक छोटे से एक गर्व लोगों (s के परंपरा के eons के भव्य योजना में दस साल के युद्ध) करने के लिए बहुत लंबे समय के लिए चीजों को बदलने की संभावना अंत तक है.) 1996 में सरकार का नियंत्रण लेता है. तालिबान aptly नाम हैं, शब्द "छात्र," और यह सब सम्मान विश्वास की व्याख्या ऊपर है तालिबान का मतलब है. जॉर्ज बुश मुस्लिम अतिवाद के रूप में देखता है, तालिबान, क्या परमेश्वर की इच्छा है. यह गंभीर व्यवसाय है और एक महान कई लोगों को स्वेच्छा से इस गंभीरता में भाग ले.
पश्चिम इसे खुद के लक्ष्यों के लिए मुजाहिदीन का इस्तेमाल किया और फिर उन्हें छोड़ दिया, यद्यपि धूमधाम और सम्मान के साथ अपने उपकरणों के लिए. रीगन उन्हें "के रूप में स्वतंत्रता सेनानियों (मान्यता प्राप्त" जो एक सीधा अनुवाद है) के रूप में जेम्स बॉण्ड और रेम्बो था. हालांकि किया जा रहा सराहना की और फिल्म में अमर शीत युद्ध के अंत होने वाला है, सीआईए चुपचाप नीचे नेताओं, Liutenants और मुजाहिदीन के प्रमुख खिलाड़ियों के नाम संक्षेप था. इन लोगों को, फिर से, अधिक चरम, और अधिक हिंसक सदस्यों, "" नींव जो "में अल Queda अनुवाद के रूप में जाना बन गया." ("" बेस एक संरचना के रूप में नींव पर बनाया जाना). अल Queda करने के लिए जो कि वे पवित्र विचार लड़ाई जारी है.
अब है कि हम स्थापित किया है, यद्यपि curtly, बुनियादी आधिकारिक मुख्य प्रासंगिक पहलुओं सहित कहानी है, आपको लगता है कि यह someways में, विरोधाभासी, या कम से कम से पता चलता है फ़र्क हो सकता है. इससे पहले कि हम सरकारी कहानी के खिलाफ तर्कों को देखने के रूप में मैं इसे relayed है, चलो साजिश के बाढ़ द्वार खोलो और देखो क्या डालने के लिये याद रखें कि हम wantonly दबाने की राय में कोई दिलचस्पी नहीं है अंदर आता है, हम करते हैं तय करने के लिए भी नहीं है अगर इन उचित है या नहीं इस बिंदु पर, करने लगते हैं. चलो कुछ अन्य लोगों के विचारों को सुनने के मूल है, तो हम उनके बारे में बात करेंगे. क्योंकि वहाँ बहुत उनमें से कई हैं, मैं उन्हें संभव के रूप में संक्षिप्त रूप में बिंदु के रूप में सूची में, मेरे विषय में चुनने की व्यवस्था की जाएगी
हवाई जहाज-मुद्दे: वहाँ विमानों के आसपास कई सिद्धांत हैं, कुछ कहते हैं कि वे के रूप में धीमा के रूप में वे फिल्म पर क्या कर रही हो दिखाई देते हैं उड़ सकता है, कुछ सोचते हैं कि वे थे रिमोट नियंत्रित कुछ लगता है कि वे सभी पर यात्री विमान नहीं थे, लेकिन बना रहे थे करने के लिए वे की तरह लग रहे थे, इस सिद्धांत से जुड़ा हुआ है कि कोई यात्री थे, कुछ सोचता हवाई जहाज, कुछ लगता है कि एक बड़ा विस्फोट के लिए नीचे करने के लिए संलग्न किया था टैंकों कोई विमानों सब पर थे, वे में तैयार की गई जगह पर, एक सबसे बड़ा, जीने में, विशेष प्रभावों के लिए कभी जगह ले लो. (हम इस सिद्धांत को अलग से चर्चा करेंगे.) अंत में, कुछ का तर्क है कि सेल फोन कॉल मिला है लोगों को जगह नहीं ले सकता है के रूप में 2001 में प्रौद्योगिकी पर बोर्ड वाणिज्यिक विमानों नहीं था.
पायलट मुद्दे: जैसा कि मैंने उल्लेख किया है, आतंकवादियों थे कि अमेरिकी उड़ान स्कूलों में इन पाठ्यक्रमों लेने के हवाई जहाज का नियंत्रण ले लिया की. उन है कि प्रभावशाली थे कौशल से कोई नहीं. प्रशिक्षकों हम उनकी निराशा व्यक्त उद्धृत कर रहे हैं कि इन लोगों को बिल्कुल भी उड़ मन, बल्कि मुश्किल यह करने के लिए उड़ान सफलतापूर्वक पहला प्रयास में एक जंबो जेट उड़ान में तीन चार लक्ष्यों हिट ले लिया कभी नहीं हो सकता की. यह काफी अलग है अलग से हवाई जहाज मुद्दों से सूचीबद्ध किया जाना है.
-वास्तु मुद्दे: वर्तमान में एक बहुत बड़ी और बढ़ती "सच का दावा है कि यह असंभव था और वैज्ञानिक के लिए एक इमारत के रूप में यह आग से किया गया था, नष्ट हो" के लिए बुलाया आर्किटेक्ट्स समूह है. इसलिए, उनका तर्क है, इन इमारतों के एक नियंत्रित विध्वंस था.
नियंत्रित विध्वंस: तर्क बस रखा, तर्क है "इन इमारतों थे पूर्व नष्ट हो धाँधली. हवाई जहाज छल कि आवश्यक था या यह भी स्पष्ट हो जाएगा कि यह एक झूठी झंडा घटना थी होगा थे. (चुपके से कैसे रिग तुम सकता है तीन विशाल भवनों हो सकता है? ध्वस्त करने के लिए) साक्ष्य के लिए इस सिद्धांत का समर्थन कई बड़े विस्फोटों से पहले विमानों को मार रहे हैं, (डब्ल्यूटीसी के कर्मचारियों के प्रशंसापत्र) WTC1 लॉबी को नुकसान, (firefighters के प्रशंसापत्र) बाहरी रूप में गिर टावरों से दिखाई विस्फोट, (firefighters और अन्य चश्मदीद गवाह की प्रशंसापत्र,) और पतन के बाद आखिर में, यह पाया गया कि शेष बीम, मलबे से बाहर jutting थे परिपूर्ण विकर्ण लाइनों में sheared, वास्तव में एक फैशन में एक नियंत्रित विध्वंस में प्रयोग करेंगे.
-झूठा फ्लैग: तर्क के बावजूद कि यह कैसे करने के लिए, इस तर्क का दावा है कि यह हुआ है क्योंकि यह माना जाने लगा था. शायद अमेरिकी सरकार के कुछ गुट अधिनियम, में भाग लिया शायद वे बस यह होने दिया. किसी भी तरह, यह एक "व्यापार के लिए अमेरिकी सैन्य औद्योगिक परिसर जा रहा रखने का फैसला था."
अमेरिकी सहापराध: तर्क अंतिम छवि देखते हैं. वे यह आ रहा था पता था. "
अमेरिकी दोगले: तर्क "वे इसे सभी के साथ करना चाहता था." एक नई अमेरिकी सदी के लिए परियोजना था एक टैंक लगता है कि राजनीतिक आधारित 1980 के neoconservatives विलियम Kristol और रॉबर्ट कगन द्वारा में स्थापित किया. 1997 में वे एक नब्बे पृष्ठ हकदार दस्तावेज़ प्रकाशित किया, "अमेरिका Defences पुनर्निर्माण." मैं पाँच भाग से अब बोली: "इसके अलावा, परिवर्तन की प्रक्रिया है, भले ही वह क्रांतिकारी परिवर्तन लाता है एक लंबे समय से एक, कुछ आपत्तिजनक और अनुपस्थित होने की संभावना है घटना catalyzing - एक नई पर्ल हार्बर पसंद है. "यह एक बहुत प्रसिद्ध" करने के लिए हथियारों के लिए लोगों को कॉल कुछ के लिए जरूरत की चर्चा करते हुए वाक्य है ". उनकी इस दस्तावेज में स्पष्ट लक्ष्य के लिए मध्य पूर्व में युद्ध की सिफारिश करने के तेल भंडार पर नियंत्रण था, सैन्य प्रभुत्व का विस्तार जारी है और युद्ध की अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ने रखने के लिए. किसी तरह, वे मिल गया कि वे क्या चाहते थे.
-अजीब संयोग: तर्क यह वास्तव में घटनाओं की एक अजीब और सार्वजनिक रूप से प्रलेखित श्रृंखला है. 2001 सितम्बर 11 पर, अमेरिकी सेना, नोराड, राष्ट्रीय टोही कार्यालय, निजी और सार्वजनिक कानून प्रवर्तन और संबंधित संगठनों के अभ्यास में भाग ले जा रहे थे कि जैसे नकली चीजें, आर्कटिक में रूसी / नाटो wargames, bioterrorism हमलों, किया जा रहा में प्रवाहित विमानों का अपहरण इमारतें. इस अभ्यास का उद्देश्य अमेरिका की धरती पर एक आतंकवादी हमले के मामले में अमेरिकी रक्षा प्रणाली की तैयारियों का परीक्षण किया गया था. यदि आप भ्रमित कर रहे हैं, मैं दोहराना होगा. सरकार एक है कि 11 सितंबर को हुआ था 11 सितंबर को एक ड्रिल कर रही है कि वास्तव में वास्तविक घटनाओं जगह ले जा mirrored है, ऐसी स्थिति से निपटने में शामिल एजेंसियों, वास्तविक समय में. (यह वास्तव में एक षड्यंत्र के सिद्धांत नहीं है, यह वास्तव में जगह ले जा रहा था.. यह उचित उम्मीद है कि यह हो रहा से, लड़ाकू विमान क्षेत्र के बाहर थे के माध्यम से केवल एक षड्यंत्र सिद्धांत बन जाता है, भ्रम बनाया गया था, देरी हुई यह तर्क भी spookier हो जाता है. जब हम बाद में पता चलता है कि सटीक एक ही अभ्यास 7 जुलाई 2007 पर जा रहा था लंदन में अपने आतंकवादी हमले के दिन ब्रिटिश समकक्षों से सटीक एक ही फैशन में आयोजित किया.
-विसंगतियों और "ठगा सबूत:" यहाँ तर्क है, "उनके स्पष्टीकरण के तर्क से दोषपूर्ण उदाहरण के लिए है.", अगर दो सबसे बड़े टावरों "आग के माध्यम से धूल करने के लिए, गिर एक पैनकेक" सिद्धांत पतन का कारण है, क्यों टॉवर सात जब यह अपेक्षाकृत मामूली आग नुकसान हुआ पतन और एक पूरी तरह से अलग शैली निर्माण किया था? इसके अलावा, पूरे वर्ल्ड ट्रेड सेंटर परिसर लैरी Silverstein के मालिक कह, "के बाद हम अन्य दो टावरों गिरावट की वजह से नुकसान के रूप में देखा रिकार्ड पर है, तो हम निर्णय लिया है कि सबसे अच्छी बात (7 टॉवर के साथ करने के लिए) बनाया जाएगा इसे खींचने के लिए. "वह बाद में इस बयान त्याग की कोशिश की, कह रही है कि वह इरादा इसे खींचने के लिए" मतलब टॉवर विस्फोटकों से नीचे लाने के लिए कभी नहीं ", वह मतलब था" अग्निशमन रोकने के लिए और इसे नीचे जाने के लिए, "में खींचने के रूप में" बाहर firefighters ". फिर भी, जब तुम इस पतन के फुटेज देखने के, यह तस्वीर एकदम सही है. तो, हम हमारे "नियंत्रित विध्वंस के तर्क को वापस कर रहे हैं."
वहाँ कहानी के इस पहलू के बारे में अन्य अजीब बातें थे. उदाहरण के लिए, कथित highjackers के कुछ विमान जहाज पर कभी नहीं थे. उनमें से सुनवाई वे मर चुका है और कैसे, प्रेस बुलाया अमेरिकी एजेंसियों पर थे, कुछ खबर आरोप लगा देना करने के लिए, तो जाहिर है बहुत जिंदा है और इन घटनाओं से किसी के साथ कुछ लेना देना नहीं रहा. अन्य बातों के सबूत हैं कि न्यायविस्र्द्ध या भी असंभव लग रहा था के रूप में पेश किए गए. वहाँ एक आतंकवादी पासपोर्ट के मामले में भी है की जा रही जमीन शून्य पर पाया, पूरी तरह से नुकसान. (विमान पूरी तरह से एक आग में नष्ट हो गया था इतना गर्म है कि यह नीचे एक गगनचुंबी इमारत है, जो पहले कभी नहीं हुआ है अभी तक एक कागज पासपोर्ट लाया बच जमीन पर पाया जा करने के लिए)? कुछ ब्लॉकों डब्ल्यूटीसी परिसर में एक जेट इंजन पाया गया था से दूर प्रयोग किया जाता है कि विमान से होने का दावा किया गया था. यह इंजन की गलत प्रकार और आदिम हालत में था. तो फिर वहाँ जब्त वीडियो फुटेज के मामले में भी है संपादित लौटा जा रहा है. वहाँ लगभग 175 वीडियो कैमरों की रिकॉर्डिंग उस दिन क्या हुआ था. उनमें से कई बिल्कुल टेलीविजन स्टेशनों के थे, लेकिन उनमें से एक नंबर सिर्फ न्यूयॉर्क और पर्यटकों के नागरिकों द्वारा पकड़े गए थे. इनमें से बहुमत एफबीआइ ने जो सबूत के लिए एक उचित खोज हो तर्क दिया जा सकता है में जब्त किया गया. हालांकि, इन टेपों में से कुछ याद आ रही फुटेज के साथ वापस आया है, या वे टेप की प्रतियां मूल नहीं थे. इतनी दूर कैमरा पैन या महत्वपूर्ण बिंदुओं पर दूर कट सकता है, करने के लिए चेहरा याद आती है एक राहगीर, या प्रभाव के महत्वपूर्ण क्षण. अंत में, वहाँ जो भी सरकारी फुटेज संपादित पेंटागन वीडियो है कि "महत्वपूर्ण क्षण में लापता" तख्ते के साथ जारी किया गया था, जैसे लगता है. पेंटागन का कहना है वीडियो अप्रकाशित है और विमान भी तेजी से आगे बढ़ रहा था वीडियो के लिए इसे पकड़ने के लिए. मैं पर्याप्त के बारे में वीडियो या भौतिकी के लिए इस सवाल का जवाब खुद पता नहीं है. दूसरे, सरकारी समाचार एजेंसी फुटेज भी 'दूर महत्वपूर्ण क्षणों में "कट लगता है. इस श्रेणी में, सामग्री का एक बहुत अवशोषित करने के लिए है, जिनमें से कुछ में संबंध ...
कोई हवाई जहाज सिद्धांत: यह सिद्धांत सबसे एक "सितम्बर सुराग नामक फिल्म में तर्क आसानी से है." मूलतः, यह अत्यंत जटिल तर्क निम्नलिखित करने के लिए नीचे फोड़े: वहाँ थे कोई विमानों कभी नहीं, (हम नहीं जानते कि क्या यात्रियों को क्या हुआ.) विस्फोट मिसाइलों के कारण किया गया जा रहा है भूमि या नौकाओं के पास से निकाल दिया. फिर "काले ऑप्स" विशेषज्ञों, समाचार एजेंसियों उपग्रहों की फ़ीड, एक सात सेकंड देरी में, पहले से तैयार "हवाई जहाज चित्र में" मिलाना में काट रहे थे कि फिर "बाहर रहते दृश्य" के रूप में भेजा है. फिल्म निर्माताओं महान सभी सवालों आप इस समय के साथ आ रहे हैं जवाब देने के विस्तार में जाना है, जैसा कि मैंने कहा, यह शायद सबसे षड्यंत्र के सिद्धांत का जटिल. इस सिद्धांत विरोधाभासी प्रत्यक्षदर्शी खातों से stemmed हो सकता है, कुछ एक छोटी जगह है, एक चांदी की विमान, एक सफेद विमान, नहीं, खिड़कियां, एक हवाई जहाज़ है कि एक मिसाइल एक मिसाइल और कुछ भी नहीं अंत में की तरह देखा के साथ एक विमान को देखा, बस इमारत में विस्फोट एक पंख फैलाव के आकार. फिल्म निर्माताओं का तर्क है कि फ्रेम विश्लेषण द्वारा फ्रेम के आकार का एक बिल्कुल दूसरी अन्य पक्ष और retracting विमान बाहर निकलने के "नाक को दर्शाता है. उनका तर्क है कि इस काले सेशन नकली उत्पादों के द्वारा एक गलती थी.
उन्नत गुप्त हथियार: सिद्धांत यह तर्क कहा गया है कि, फिर से, इस घटना के एक पूर्व की योजना बनाई है, नियंत्रित विध्वंस था, लेकिन वहाँ भी अदिश हथियारों के सबूत प्रयोग किया जा रहा है और दीमक है. अदिश हथियार हैं (अब तक) सैद्धांतिक "रे बंदूक" जादुई हथियार है कि कई बातें कर सकते हैं पसंद है. यह कहा जाता है अदिश हथियार के उपयोग के काले टावरों चक्कर हेलीकाप्टरों द्वारा evidenced है, भूमि पर बहुत चमकदार रोशनी और वाहनों उत्सर्जन शून्य पूरी तरह अन्य, नुकसान की तुलना में वे किया जा रहा उल्टा कर रहे हैं. (चीजों की सूची है कि यह कहा जाता है एक अदिश रे कर सकते हैं लंबा है, लेकिन शामिल हैं: विरोधी गुरुत्व, आणविक विघटन, सुपर गर्मी). दीमक, एक बहुत ही वास्तविक इकाई है, यह एक अत्यंत गर्म रासायनिक कटौती करने के लिए, वेल्ड किया प्रतिक्रिया है या अन्यथा धातु पिघला. यह दावा किया है, यह डालने के लिये अभी भी खड़े टावरों के बाहर और तब दिखाई देता है, गिर के बाद, उल्लेखनीय गर्म धातु पिघला हुआ है कि सप्ताह के लिए रुके गर्म पूल का प्रतिपादन. Firefighters, जीवित बचे लोगों की खोज करने का प्रयास कभी कभी इन पूल से दूर कर दिया गया है, भी दृष्टिकोण करने के लिए गर्म है.
"बहुत" इस दुनिया के लिए अजीब सिद्धांत: कुछ लोगों को लगता है कि घटनाओं है कि 11 सितंबर को हुई Illuminati, satanist, विदेशी एजेंडे के कुछ प्रकार के मानव त्याग रहे थे. शायद सबसे मशहूर दाऊद Icke, बुश परिवार ने आगे रखा नीरो (जो सच है वंशज) महारानी एलिजाबेथ के रूप में एक ही खून का हिस्सा है, (और सभी विंडसर, यह भी सही है,), लेकिन वास्तव में आकार में है कि वे कर रहे हैं-स्थानांतरण साँप एलियंस एक खाद्य स्रोत के रूप में मानव जाति enslaving पर भूत चढ़ा हुआ, (शायद सच नहीं है कि बुश परिवार के कुछ weirdness में शामिल है, विवादास्पद सदस्यता के रूप में खोपड़ी और हड्डियों, या Bilderbergers, या भाग लेने के रूप में ऐसे संगठनों के लिए यद्यपि.) बोहेनिया Grove पर गुप्त बैठकों में, लोगों को केवल यह वास्तव में क्या मतलब है पर कल्पना कर सकते हैं, अगर कुछ भी. एक अजीब पहलू है कि मैं डरावना है क्योंकि आप इसे अपनी आंखों से देख सकते हैं और हालांकि यह शायद एक संयोग है सकते हैं, लेकिन एक संयोग है, नकद तावीज़ सिद्धांत है. यह सबसे अच्छा चित्र में विस्तार से बताया, नीचे छपा है. तर्क दिया है वह क्या है, यह पैसे दिन दिन बाहर में निपटने के द्वारा वर्षों के लिए, हम subconsciously, (cosmically?) बनाया इन घटनाओं हमारे बेहोश इरादे के माध्यम से होता है. फ्रेम में, विभिन्न मूल्यवर्ग के अमेरिकी डॉलर के बिल तह द्वारा हम घटनाओं की एक विशिष्ट श्रृंखला देख 5 पर प्रकट कर सकते हैं, 10, 20 50, और 100 डॉलर के बिल, न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय के पास वॉशिंगटन मेहराब के माध्यम से देखा है, अगर मुड़ा "सही"

मैं कुछ निश्चित सिद्धांतों को याद किया हो सकता है और मैं निश्चित रूप से उनमें से किसी पर किसी भी महान विस्तार में चला गया है नहीं है. इससे पहले कि हम इन सिद्धांतों की जांच शुरू, चलो एक पल लेने के लिए समीक्षा की घटनाओं है कि 11 सितंबर को जगह ले ली के परिणाम क्या रहे थे. मुझे यकीन है कि हर कोई इस पर सहमत हो सकते हैं रहा हूँ: अमेरिका और अफगानिस्तान और इराक, पाकिस्तान, सूडान, सऊदी अरब में अब तक नहीं ले जाया सहयोगी है. हमें बताया गया, adamantly कि सामूहिक विनाश के "इराक कि पाया जा करने की जरूरत है" में हथियार थे और आतंकवादियों को शरण देने कि इराक गया था. वास्तव में, अब हम काफी आसानी से समय पर राजनेताओं के समाचार फुटेज के स्पष्ट सामाजिक इंजीनियरिंग पहचान करने में सक्षम होना चाहिए, और जनसंहारक हथियारों को दोहराया था संलग्न हैं, विज्ञापन nauseum की जरूरत है, जब तक हम खुद को पाया राजी कर लिया. प्लस, चलो समय में इस बिंदु पर है नहीं भूलना, अमेरिका अब भी उदासी और गुस्से में जूझ रहा है. अमेरिका बदला चाहता है, यह ज्यादा नहीं लेने के लिए जनता को समझाने कि बदला गया था कि क्या सही था.
लेकिन, क्या हम वास्तव में यहाँ इस स्थिति में, है. हम एक तरफ, एक इस्लामी अतिवाद और डिजाइन की शिक्षाओं की सदस्यता लेने पर एक दार्शनिक सैयद कुतुब जो उत्कृष्ट बीबीसी वृत्तचित्र श्रृंखला में वर्णित है, भयानक सपने की शक्ति का नाम. दूसरी ओर हम एक क्रिश्चियन अतिवाद और डिजाइन की शिक्षाओं की सदस्यता लेने के एक दार्शनिक लियो स्ट्रास नाम. शायद तुम अपने आप से सोच रहे हैं, हाँ ", लेकिन हम निर्दोष मुसलमानों के हजारों के एक आतंकवादी हमले में नहीं मारा." यदि आप इस सोच रहे हैं, अपने सिर डाल कृपया नीचे और एक झपकी ले, तो आप रास्ता भी यह जारी अनभिज्ञ वार्तालाप. हम, ऐतिहासिक और आसानी से, बाहर से एक सौ के लिए एक मार्जिन द्वारा हत्या स्थान पर रहीं. एक तर्क है कि "" हत्या के इस प्रकार के लिए ठीक है और "नहीं" हत्या के उस प्रकार नहीं कर सकते. एक कहते हैं, नहीं "हम सही हैं," और सटीकता के किसी भी तरह के साथ वे गलत हो सकता है. आतंकवादी कर एक खरब डॉलर के बजट नहीं है, वे केवल अपने युद्ध लड़ सकते हैं वे कर सकते हैं के रूप में. हम उन पर एक हास्यास्पद फायदा है, तकनीकी, सैनिक और अधिक राशि. हम उन पर कोई नैतिक रूप से लाभ है, बावजूद कि हम क्या विश्वास करते हैं. यह एक पूरी तरह से निष्पक्ष लड़ाई है, क्योंकि युद्ध करने के लिए उचित नहीं माना जाता है. अंतर हम ध्यान दें चाहिए, हालांकि हम कहते हैं कि हम स्वतंत्रता के लिए सिर्फ एक युद्ध, या करने के लिए लोकतंत्र का प्रसार लड़ रहे हैं, वे एक युद्ध लड़ रहे हैं जीने के रूप में वे कृपया सही फैला है, (जो स्वतंत्रता नहीं है?) वे कोशिश नहीं कर रहे हैं कुछ भी फैला है, बल्कि वे हम उन्हें अकेला छोड़ दिया जाएगा. मैं आतंकवादी के साथ साइडिंग है नहीं हूँ, मैं भी किसी के साथ नहीं साइडिंग, I'ma दार्शनिक. इन बाद के सभी बिंदुओं पर दूर गिर जाएगी, जब मैं आपको बताना है कि हम केवल यहाँ पर विचार के लिए या नहीं मैं क्या कहा है सच नहीं है, क्या यह सही है या गलत कर रहे हैं. हम सामाजिक इंजीनियरिंग की तलाश, हम इसे किया है "के रूप में सदस्यता लेने के लिए बनाया गया."
चलो अब उचित समस्याओं को देखो, हम दोनों घटनाओं के सरकारी संस्करण में है और विविध षड्यंत्र के सिद्धांत पा सकते हैं. जैसा कि हम इस अध्याय की शुरुआत में स्थापित, हम वास्तव में केवल दो उन इमारत बातें पता चली हैं और बना हुआ है कि उन्हें "कुछ दूर जाने हम क्या विवरण के बारे में तो सोचना चाहिए."? हम कौन से सहमत करना चाहिए? क्या हम पर विश्वास करना चाहिए? सबसे पहले और शायद सबसे महत्वपूर्ण बात है, चलो पता है कि इस सवाल का अस्तित्व है, और खुद की, समस्या है. हम विश्वास क्यों करना चाहिए कोई है? आओ हम नहीं पता कर सकते हैं उस दिन क्या हुआ कैसे? जवाब, ज़ाहिर है, जो पहेली के टुकड़े सभी एक साथ फिट नहीं है. समय के रूप में आगे बढ़ता रहता है, एक तरफ, हम उन्हें षड्यंत्र theorists फोन,. पुल आगे और आगे की दूसरी तरफ से दूर, हम उन्हें "फोन आधिकारिक विश्वासियों" वास्तव में लापता या गलत टुकड़े करता है एक सुंदर चित्र बनाने के लिए नहीं के साथ एक पहेली, , में कुछ भी नहीं बनाता है. तो, चलो आसान सवाल और जवाब के रूप में फिर से शुरू, मुझे जवाब से आते हैं, काफी और ईमानदारी से करेंगे. इन मामले पर मेरी राय हैं.
क्यू: क्या टावरों में हवाई जहाज दुर्घटना? एक: हाँ, मुझे लगता है. उन सभी यात्रियों को अब भी लापता हैं. मुझे लगता है कि यह उचित है उम्मीद है कि अगर इसे "नाटक का हिस्सा था तो कम से कम उनमें से एक को बारी जाएगा और कहा," मैं अभी भी ज़िंदा हूँ ज्यादा एक ही रास्ते में! "," कि आतंकवादियों को नहीं शामिल किया गया .
क्यू: हवाई जहाज 'टावरों के पतन का कारण था? एक: मैं उत्तर नहीं दे सकता है कि, लेकिन मैं गंभीरता शक है. मुझे विश्वास है कि वहाँ एक माध्यमिक विधि कम से कम पतन का कारण के रूप में हम जानते हैं कि यह हुआ था हूँ. चाहे वह परंपरागत विस्फोटक, हथियार या अदिश दीमक था, चाहे वह अल Queda था या अमेरिकी "काले ऑप्स" मैं नहीं जानता. हालांकि, मैं सैकड़ों के साथ पक्ष (यह है अब? द्वारा हजारों आर्किटेक्ट जो पतन है कि उस दिन क्या हुआ दावा) के कम से कम और अधिक से अधिक असंभव में अभूतपूर्व था. , अत्यधिक शक है, मैं राय है कि 7 इमारत के ढहने, लैरी Silversteens अनुदेश के साथ "इसे खींचने के लिए भी कर रहा हूँ". 7 बिल्डिंग एक धूम्रपान बंदूक है. कोई जरूरत नहीं यह पतन की उम्मीद कारण था. अगर वे "" इसे यह होना धाँधली था खींच लिया. यदि यह धाँधली था सप्ताह, यह अग्रिम में किया गया था. अगर यह सप्ताह अग्रिम में किया गया था, यह परिभाषा के द्वारा, एक साजिश. दीमक की ताल मौजूद थे, इस प्रलेखित है. दीमक स्वाभाविक रूप से घटित नहीं करता है. किसी ने उसे वहाँ डाल दिया. दीमक एक धूम्रपान बंदूक है. अगर किसी को दीमक वहाँ रखा, यह परिभाषा के द्वारा, एक साजिश. मुझे भी लगता है कि हम सवाल में कई प्रत्यक्षदर्शी कॉल (और चाहिए earwitness, मैं सकता है अगर,) "विस्फोट से पहले हो के दौरान, और इमारतों smouldered बाद की रिपोर्टों, लेकिन अभी तक नहीं गिर पड़ा. इसके अलावा, स्पष्ट रूप में दिखाई विस्फोट इमारतें ढह गई. संरचनात्मक विस्फोट रणनीतिक विस्फोट कर रहे हैं, अगर वे यह है, परिभाषा के द्वारा एक साजिश हो गए थे.
: कैसे वे तीन विशाल भवनों रिग सकता क्यू ध्वस्त होने के लिए चुपके से? एक: मैं नहीं जानता. मुझे पता है कि इन इमारतों बहुत व्यस्त थे देता है और यह "वहाँ काम कर निर्माण" श्रमिकों के लिए असामान्य नहीं होगा. इसके अलावा, कुछ डब्ल्यूटीसी कर्मचारियों ने कहा कि वहाँ था "हलचल का एक बहुत, पिटाई और" रोते विभिन्न फर्श, ज्ञात से सुना खाली होने के लिए 11 सितम्बर को सप्ताह में अग्रणी. सब मुझे पता है यह, इस्पात इमारतों को जलाने और जला सकते हैं और जला, सप्ताह के लिए collapsing बिना तय किए. तैयार इस्पात इमारतों अकस्मात पतन नहीं है. अगर इमारत के इस प्रकार के लिए इसे मार विमान, (जो, वैसे, यह करने के लिए का सामना करने के लिए बनाया गया था) से कुछ भी यह एक अनुभाग "उस पर गिर गया होता जा रहा है. था" यह सबसे अच्छा उदाहरण से स्पष्ट है जब हम फुटेज देखने के लिए है धीमी गति में गिरावट टावरों के. जब पतन शुरू होता है, आप देख सकते हैं कि कैसे प्रभाव क्षेत्र से ऊपर शीर्ष अनुभाग,, पर बग़ल में गिरावट शुरू होता है. फिर, किसी कारण के लिए, के निर्माण के बाकी के रूप में एक ही फैशन में ऊपर नीचे घुल घुल. यह सभी तर्क defies और समझाया नहीं जा सकता है, किसी के द्वारा अपनी संतुष्टि के लिए. यह कैसे भी हो सकता है?
प्रश्न: आप कह रही है कि यह अमेरिका के हजारों मारे गए हैं ताकि वे अपने लोगों के एक एजेंडा अग्रिम कर सकता है? एक: नहीं, मैं कह रहा हूँ कोई एक तरीका है कि या पूरी तरह से सच्चाई नहीं किया जा रहा हमारे लिए समझाया और यह एक ने कहा अमेरिका के राजनीतिक एजेंडे उन्नत है में हजारों लोगों को मार डाला. इसके अलावा, मुझे लगता है कि परिणाम खुद के लिए बोलते हैं. मुझे लगता है कि यह निश्चित रूप से आसान करने के लिए प्राप्त करने के लिए अमेरिका उस दिन क्या हुआ, की तुलना में कहना है कि अल Queda होगा. मैं राय का रहा हूँ कि वाशिंगटन में सत्ता के गलियारों में एक बदमाश तत्व है. यहाँ तक कि अगर अमेरिका इस किया था, इसका यह मतलब नहीं "यह अमेरिका" था. दुर्भाग्य से, सभी के लिए, दुनिया के इस तरह के अंतर नहीं पड़ता है. जाहिर है, हम व्यापकता में गांठ के लिए कुछ भी नहीं चाहता.
क्यू: सहापराध या दोगले? एक: शायद दोनों. हमें पता है डिक चेनी लगातार संघर्ष लड़ाकू जेट विमानों के लिए अनुरोध मना कर दिया. हम जानते हैं कि जॉर्ज बुश "मेरा पालतू बकरी पढ़ रहा था". हम जानते हैं कि वहाँ जगह वास्तविक घटनाओं मजाक उड़ाया है और इस भ्रम के कारण अभ्यास लेने गए थे. हम जानते हैं कि आसन्न हमले की रिपोर्ट पर ध्यान नहीं दिया गया. अगर इन सब बातों के सिर्फ आधुनिकता के अनियंत्रित अयोग्यता की byproducts हैं, (जो एक खिंचाव की भी ज्यादा नहीं है,) यह सब अपूर्ण समय की पहचान थी. हालांकि, एक नई अमेरिकी सदी के "रिपोर्ट अमेरिका Defences पुनर्निर्माण के लिए परियोजना की तरह बातें एक छोटी सी भी सही अपने स्वाद के लिए एक संयोग है," कर रहे हैं. हमें यह नहीं भूलना इतिहास झूठी झंडे कि विभिन्न सरकारों ने अब स्वीकार करने के साथ प्रचलित है. होगा किसी को, किसी दिन यह स्वीकार करने के लिए?
प्रश्न: क्या आपको लगता है बुश ने एक साँप आकार, मज़दूर कि एक खाद्य स्रोत के रूप में मानव जाति के वश में रखना चाहता है? एक: नहीं, मेरी राय में, वहाँ केवल मानव ये बहुत लोगों के लिए दो motivators, पैसा और शक्ति.
क्यू: वहाँ चीज़ें है कि हम बाहर कुछ के लिए मिल सकता है? हाँ एक:. हम कई चीजों को निर्धारित करने में सक्षम हो, अगर हम कर रहे हैं करने की अनुमति दी जाना चाहिए. यह काफी आसान साबित होता है कि इन इमारतों टावरों से बाएं से अधिक इस्पात का परीक्षण करके ध्वस्त किया गया होना चाहिए. (यह तुरंत निकाल दिया गया और नष्ट कर दिया या पुनर्नवीनीकरण, या तो हमें बताया रहे हैं). फिर भी, हम मॉडल प्रयोग करने के लिए "संरचनात्मक आग परीक्षण करने में सक्षम होना चाहिए करने के लिए" परिकल्पना पतन होता है. हम पता लगाने के लिए सक्षम होना चाहिए अगर फोन है कि उड़ानों जहाज पर जगह ले ली भी संभव समय में थे. हम चाहे या नहीं विमानों के रूप में फिल्म में दर्शाया उड़ करने में सक्षम थे के सवाल का जवाब देने में सक्षम होना चाहिए. मुझे यकीन है कि वहाँ कई अन्य बातें मैं के बारे में नहीं सोच रहा हूँ रहे हैं यकीन है.
अंत में, इसका मतलब क्या है? हम जानते हैं जहाँ हम अब कर रहे हैं, लगभग दस साल बाद, लगभग अदृश्य मोर्चों पर दो बहुराष्ट्रीय युद्ध लड़. हम जानते हैं क्यों? सच में नहीं. हम केवल पक्षों ले सकते हैं. तो क्या हुआ के बारे में जो हम अब कर रहे हैं जो हम तो थे तुलना में, कहा जा सकता है, हम और अधिक या कम खुद कर रहे हैं?
घटनाओं है कि सितंबर को मैनहट्टन द्वीप पर हुआ 11, 2001 विरोधाभास है कि हाइपर वास्तविकता में हमारे समाज पर धक्का बनाया.